न्यूजीलैंड ने क्या किया जिससे 100 दिन में कोरोना का एक भी केस नहीं आया

new zealand
Spread the love
    • पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए जूझ रही है और न्यूजीलैंड मिसाल बना।
    • न्‍यूजीलैंड में पिछले 100 दिनों से घरेलू स्तर पर संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है।
    • न्यूजीलैंड में मार्च के अंत में सख्ती से लॉकडाउन लागू कर संक्रमण को काबू कर लिया गया था।

पूरी दुनिया कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए जूझ रही है। ऐसे में न्यूजीलैंड एक मिसाल की तरह उभर कर सामने आया है। यहां पिछले 100 दिनों से घरेलू स्तर पर संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया है। न्यूजीलैंड में मार्च के अंत में सख्ती से लॉकडाउन लागू कर संक्रमण को पूरी तरह काबू कर लिया गया था। उस समय यहां लगभग 100 लोग ही वायरस से संक्रमित थे।

प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न के शब्दों में कोरोना को रोकने के लिए न्यूजीलैंड की रणनीति थी- “कड़े कदम उठाओ और समय से पहले कार्रवाई करो”।

इसे भी पढ़े: कोरोना संकट के बीच बड़ी खबर, वैक्सीन सभी परीक्षण में पास

जब जेसिंडा अर्डर्न ने 19 मार्च को देश की सीमा विदेशियों के लिए बंद की थी तब तक देश में 28 केस थे और जब 23 मार्च को देश में लॉकडाउन लागू किया गया तो कुल 102 केस थे और एक भी मौत नहीं हुई थी। अन्य देशों की तुलना में न्यूजीलैंड का लॉकडाउन कड़ा था।

8 जून को न्यूजीलैंड ने ऐलान किया कि सारी पाबंदियां हटाई जा रही हैं। उस समय पिछले 17 दिनो में 40 हजार टेस्ट में से एक भी पॉजिटिव मामला सामने नहीं आया था। जून के बाद न्यूजीलैंड में जिंदगी लगभग सामान्य हो गई है और फिलहाल लॉकडाउन की जरूरत भी नहीं है।

कोरोना वायरस पर कैसे पाया काबू ?

‘यूनिवर्सिटी ऑफ ओटागो’ के प्रोफेसर माइकल बेकर बताते हैं कि न्यूजीलैंड ने शुरू से साहसी और सख्त फैसले लिए। शुरुआत में ही काफी सख्त लॉकडाउन लगाया। अपनी सीमाओं को पूरी तरह सील कर दिया और स्वास्थ्य व्यवस्थाओं पर जोर दिया। इसी का नतीजा है कि कई देशों में अर्थव्यवस्था की स्थिति डगमगा रही है, तो न्यूजीलैंड अपने यहां बेरोजगारी दर को 4 फीसद पर रखने में कामयाब रहा है।

न्यूजीलैंड लॉकडाउन के दौरान सीमा की सुरक्षा को लेकर काफी सख्त था। सिर्फ नागरिकों को ही देश में आने की इजाजत थी और वह भी सरकारी केंद्र में दो हफ्ते तक क्वारनटीन रहने की शर्त पर। न्यूजीलैंड को एक और फायदा इस चीज से मिला कि भौगोलिक रूप से यह एक आइलैंड है और किसी भी देश के साथ इसकी जमीनी सीमा नहीं मिलती है।

इसे भी पढ़े: कोरोना रोकथाम के लिए उत्तराखण्ड सरकार के बड़े कदम, करना होगा इन् नियमों का पालन

न्यूजीलैंड ने क्या नहीं किया ?

सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, दुनियाभर के कई देशों में मास्क पर काफी जोर दिया जा रहा है, लेकिन न्यूजीलैंड में कोरोना को काबू करने में मास्क ने महत्वपूर्ण भूमिका नहीं निभाई। हालांकि, अब सरकार लोगों से घरों में मास्क रखने को कह रही है ताकि आने वाले दिनों में संक्रमण फैलने पर लोग इस्तेमाल कर सकें।

करीब 50 लाख की आबादी वाले देश में अब तक कोरोना से सिर्फ 22 मौतें हुई हैं। अभी न्यूजीलैंड में सिर्फ 21 एक्टिव केस हैं। सभी एक्टिव केस विदेशों से ही आए हैं। सभी एक्टिव केस आइसोलेशन सेंटर में हैं। बीते 100 दिनों में एक भी कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं हुआ है। हालांकि, नए केस नहीं आने के बावजूद देश में लोगों की कोरोना जांच की जा रही है।

25 thoughts on “न्यूजीलैंड ने क्या किया जिससे 100 दिन में कोरोना का एक भी केस नहीं आया

Leave a Reply

Your email address will not be published.