उड़ीसा और बंगाल के बाद अब इन राज्यों में तूफान से तबाही कीआंशका, अलर्ट जारी, एनडीआरएफ की टीमें भी तैनात

Spread the love

पूरा देश कोरोना के कहर से जूझ रहा है। जिस रफ्तार से भारत में अब कोरोना फैल रहा है। सरकार के लिए इस महामारी पर कंट्रोल कर पाना उतना ही मुश्किल हो रहा है। कोरोना के संकट के बीच पिछले दिनों देश में सुपर साइक्लोन अंफन ने भी दस्तक दी थी। इस तूफान ने बंगाल और उड़ीसा में इतनी तबाही मचाई कि अलर्ट के बाद भी 80 से ज्यादा लोगों को जान गंवानी पड़ी। अभी इस तबाही से देश उभर ही रहा था कि अब महाराष्ट्र में एक और संकट सामने आ गया। मौसम विभाग की जानकारी के अनुसार गुजरात के तट पर 3 जून को चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ दस्तक दे सकता है। जिसे देखते हुए गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, दमन व दीव और दादरा नगर हवेली में अलर्ट जारी कर दिया गया है।

चक्रवाती तूफान निसर्ग से तबाही की आशंका को देखते हुए इन राज्यों के निचले स्थानों पर रहने वाले लोगों को निकालने के आदेश दे दिए गए हैं। वहीं संवेदनशील इलाकों में एनडीआरएफ की टीमें भी तैनात कर ली गई हैं। फिलहाल चक्रवाती तूफान निसर्ग से तबाही की आशंका के बीच 23 एनडीआरएफ की टीमें तैनात हैं, वहीं 5 टीमों को भठिंडा से गुजरात के लिए एयरलिफ्ट भी किया गया है।

120 किमी/प्रतिघंटा हो सकती है रफ्तार

मौसम विभाग की जानकारी के अनुसार चक्रवात मुंबई और पालघर के नजदीक पहुंच गया है। अरब सागर पर बना कम दबाव का चक्रवात 11 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से मुंबई की ओर बढ़ रहा है। लेकिन इसके तूफान में बदलते ही हवा की गति 120 किलोमीटर प्रतिघंटा हो सकती है। फिलहाल यह मुंबई से 430 किलोमीटर दूर है। 3 जून को यह तूफान तटीय इलाकों में तबाही मचा सकता है। तूफान के चलते महाराष्ट्र के कई इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश होने लगी है।

मुंबई के आस-पास के इलाकों में रेड अलर्ट

चक्रवाती तूफान निसर्ग से तबाही का सबसे बड़ा खतरा महाराष्ट्र पर है। इसके मद्देनजर मुंबई और पास के जिलों में रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। साथ ही संवेदनशील जिलों में एनडीआरएफ की दस टीमों को तैनात किया गया है, जबकि 6 टीमों को अलर्ट पर रखा गया है। महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्र पालघर और रायगढ़ जिलों में स्थित रासायनिक और परमाणु ऊर्जा संयंत्रों की सुरक्षा के लिए एहतियात भी बरते जा रहे हैं।