उत्तराखंड रोडवेज: अब दूसरे राज्यों में नही चलेगी उत्तराखंड रोडवेज ,पढ़े पूरी खबर

Spread the love

उत्तराखंड रोडवेज की बस सेवा सभी राज्यों के लिए बंद कर दी गई है। लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण और दूसरे राज्यों की बंदिशों के चलते यह फैसला लिया गया है। अब केवल प्रदेश के भीतर ही बसों का संचालन किया जाएगा। इससे पहले उत्तर प्रदेश ने भी अन्य राज्य की बसों की एंट्री पर रोक लगा दी थी।

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड : कोरोनाकाल में 40 लाख लोगो को 3 महीने तक मिलेगा 20, किलो राशन, पढ़े पूरी खबर

दूसरे राज्यो में जाने के  लिए उत्तराखंड रोडवेज बंद

उत्तराखंड रोडवेज का अंतरराज्जीय परिवहन पूरी से बंद हो गया है। गढ़वाल से बसें कुमाऊं और कुमाऊं से गढ़वाल मंडल के बीच भी बसों का संचालन ठप हो गया है। इससे रोडवेज की इनकम में भारी गिरावट आई है। अब दोनों मंडलों के भीतर जो बसें चल रही हैं, उनमें सवारियों की संख्या बहुत कम है, जिससे रोडवेज के सामने आर्थिक संकट बढ़ता जा रहा है।यूपी में लॉकडाउन चल रहा है। वहां सार्वजनिक परिवहन बंद हैं। तीन दिन पहले यूपी ने दिल्ली, गुरुग्राम, फरीदाबाद, लखनऊ, बरेली, आगरा, कानपुर समेत विभिन्न शहरों तक जाने वाली उत्तराखंड की रोडवेज की बसों को अपनी सीमा से वापस लौटाया।

इसके बाद उत्तराखंड रोडवेज प्रबंधन ने यूपी से जाने वाली बसों का संचालन रोक दिया था। अब चंडीगढ़ और हिमाचल ने भी अंतरराज्यीय परिवहन रोक दिया है। ऐसे में यहां उत्तराखंड रोडवेज की बसों का संचालन ठप हो गया है। गढ़वाल और कुमाऊं के बीच यूपी का कुछ क्षेत्र आता है, जिस कारण दोनों मंडलों के बीच भी संचालन थम गया है। रोडवेज के महाप्रबंधक (संचालन) दीपक जैन का कहना है कि अंतरराज्जीय संचालन ठप हो चुका है। गढ़वाल और कुमाऊं मंडल के बीच सीमित संख्या में बसें चल रही हैं। गढ़वाल से कुमाऊं और कुमाऊं से गढ़वाल भी बसें नहीं आ-जा पा रही हैं।

इसे भी : अब बाहरी राज्यों से उत्तराखंड आने पर 7 दिन तक क्वारेंटाइन रहना होगा, पढ़े पूरे नियम

उत्तराखंड में लगातार बढ़ रहा आर्थिक संकट

रोडवेज पहले से ही आर्थिक से जूझ रहा है। कर्मचारियों को जनवरी से वेतन नहीं मिल पाया। करोड़ों की देनदारी चल रही है। होली से पहले रोडवेज की रोजाना की औसत इनकम एक करोड़ 70 रुपये चल रही थी। लेकिन जैसे ही कोरोना संकट बढ़ा, इनकम भी कम होती गई। अब रोडवेज की रोजाना इनकम करीब 30 लाख रुपये तक पहुंच गई है। जो इनकम आ रही है, वह डीजल में ही खर्च हो जा रही है।