अब RC को मोबाइल नंबर से करना होगा लिंक, नहीं तो करना पड़ेगा परेशानियों का सामना

Spread the love

सरकार परिवहन मोटर एक्ट में लगातार संशोधन के रही है। अब सरकार ने वाहन से जुड़ी सभी गतिविधियों को आसान करने के लिए आरसी (RC) को मोबाइल नंबर से लिंक करना अनिवार्य कर दिया है। परिवहन आयुक्त कार्यालय ने इस ने इसके लिए दिशानिर्देश जारी कर दिए है। अब नए वाहन के रजिस्ट्रेशन के समय मोबाइल नंबर लिंक कर दिया जाता है। लेकिन पहले ऐसा नहीं होता था। ऐसे में जिनके पास पहले के वाहन है वह लोग भी परिवहन विभाग के पोर्टल के जरिए आसानी से मोबाइल नंबर लिंक कर सकते है। विभाग ने निर्देश जारी किए सभी जल्दी से जल्दी इस प्रक्रिया को पूरा कर ले नहीं टी बाद में उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

इसे भी पढ़े: अब घर बैठे बनाए ड्राइविंग लाइसेंस (DL), जाने कैसे ?

RC को मोबाइल नंबर से लिंक करने के स्टेप

  • सबसे पहले आपको परिवहन की आधिकारिक https://parivahan.gov.in/parivahan/ वेबसाइट पर जाना होगा।
  • उसके बाद आपको ऑनलाइन सर्विस के अंदर vehicle Related पर क्लिक करना होगा।
  • उसके बाद आपको दिल्ली स्टेट और other स्टेट में से एक पर क्लिक करना होगा।
  • उसके बाद आपके सामने नया पेज खुलेगा उसमे आपसे रजिस्ट्रेशन नंबर मांगा जाएगा। जाने आपको अपना गाड़ी का नंबर भरना होगा।
  • उसके बाद आपको Proceed के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • उसके बाद आपको अपना मोबाइल नंबर अपडेट के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • उसके बाद आपको chasis नंबर और engine नंबर भरना होगा।
  • उसके बाद आपको को गाड़ी की सभी डिटेल दिख जायगी।
  • उसने आपको मोबाइल नंबर का बॉक्स दिखेगा उसमे आपको अपना नंबर भरना होगा।
  • उसके बाद आपके नंबर पर एक OTP आयेगा उसे भरने के बाद आपका नंबर RC के साथ लिंक हो जाएगा।
  • उसके बाद इन सभी स्टेप को फॉलो करके देख सकते हैं कि आपका नंबर अपडेट हुआ या नहीं।
इसे भी पढ़े: अब WhatsApp Pay से करें पैसों का लेनदेन, मेसेज भेजने से भी आसान है तरीका

DL और RC के नियमो में भी बदलाव

अभी तक हर राज्य में DL और RC का फॉर्मेट अलग होता है। लेकिन अब इस नए नियम के लागू होने के बाद पूरे देश में एक जैसे DL और RC होंगे। इसे लेकर सरकार ने कुछ टाइम पहले नोटिफिकेशन भी जारी किया था। अब DL और RC में क्यू आर कोड उपलब्ध होंगे। QR कोड के जरिए केंद्रीय ऑनलाइन डेटाबेस से ड्राइवर या वाहन के सभी रिकॉर्ड को एक डिवाइस के जरिए पढ़ा जा सकेगा। यह डिवाइस अब ट्रैफिक पुलिस के पास मौजूद रहेगी जिसमें कार्ड डालते ही QR कोड स्कैन होगा, उसके बाद गाड़ी और ड्राइवर की सभी जानकारी ट्रैफिक पुलिस को मिल जाएगी।