उत्तराखण्ड: अनलॉक 4.0 में बदले कई नियम, अब इन बातों का रखना होगा खास ध्यान

Spread the love

उत्तराखण्ड में बढ़ते संक्रमण के बीच सरकार ने अनलॉक 4.0 के लिए गाइडलाइंस जारी कर दी हैं। गाइडलाइंस में उत्तराखण्ड सरकार ने बदलाव कर कई मामलों में राहत दी है। वहीं कई जगह अब भी पाबंदी जारी रखी है। नई गाइडलाइंस के अनुसार दूसरे राज्य से उत्तराखण्ड में आने या उत्तराखण्ड से दूसरे राज्य में जाने के लिए पास की जरूरत नहीं होगी। लेकिन वहीं सरकार ने स्मार्ट सिटी वेब पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराने के नियम को बरकरार रखा है। इसके अलावा अब धार्मिक स्थल, मॉल और बाजारों को भी खोलने की अनुमति मिल गई है। आइए जानते हैं अनलॉक 4 के नए नियमों में आपको किन बातों का खास ध्यान रखना होगा।


  • सभी स्कूल-कॉलेज और शिक्षण संस्थान 30 सितंबर तक बंद रहेंगे। लेकिन 21 सितंबर से 9 से 12 तक की कक्षा के छात्र शिक्षक से परामर्श के लिए स्कूल जा सकते हैं। लेकिन यह भी अभिभावकों की लिखित अनुमति के बाद ही संभव होगा।

  • गाइडलाइंस के मुताबिक शिक्षण और गैर शिक्षण संबंधी 50 प्रतिशत स्टाफ को 21 सितंबर के बाद शिक्षण और स्कूल संबधी अन्य कार्यों के चलते स्कूल बुलाया जा सकता है।
  • पार्कों में मॉर्निंग वॉक के लिए 21 सितंबर के बाद 100 लोग निकल सकेंगे। पहले ये संख्या 50 थी।
इसे भी पढ़े: देशभर में शुरू हुआ Unlock 4.0, इन बातों का रखना होगा खास ध्यान
  • बाहरी राज्यों से उत्तराखण्ड आने वालों पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा। लेकिन स्मार्ट सिटी वेब पोर्टल ( http://dsclservices.org.in/apply.php ) पर रजिस्ट्रेशन कराने के नियम को बरकरार रखा गया है। वहीं ई-पास और सरकार से अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं है।
  • अब बाहरी राज्यों से एक दिन में आने वाले लोगों की लिमिट समाप्त कर दी गई है। अब एक दिन में कितने भी उत्तराखण्ड में प्रवेश कर सकते हैं। लेकिन स्मार्ट सिटी वेब पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य होगा। साथ ही सभी के फोन में आरोग्य सेतु एप होना भी जरूरी है।
  • NEET और JEE परीक्षाओं में शामिल होने वाले छात्रों और उनके अभिभावकों को क्वारेंटाइन से छूट दी गई है।
  • नई गाइडलाइंस में दूसरे राज्य में जाने वाले यदि 5 दिन के भीतर वापस लौटते हैं, तो उन्हें क्वारेंटाइन नहीं किया जाएगा। लेकिन यदि कोई वापसी में  7 दिन से अधिक समय लगता है, तो उसे 14 दिन के होम क्वारेंटाइन पर रखा जाएगा।
  • बाहरी राज्यों से आने वालों के लिए अब 4 दिन तक की एनटीपीआर निगेटिव टेस्ट रिपोर्ट दिखाने पर क्वारेंटाइन से छूट मिलेगी। लेकिन स्मार्ट सिटी पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा।
  • दिल्ली और मुंबई जैसे 34 हाई लोड कोरोना वाले शहरों से आने वालों और पर्यटकों को उत्तराखण्ड आने के बाद सात दिन के लिए संस्थागत क्वारेंटीन रहना होगा। इसके बाद 7 दिन के लिए होम क्वारेंटीन रहेंगे। इसके अलावा अन्य शहरों से आने वालों को 14 दिन के लिए होम क्वारेंटाइन रहना होगा।
इसे भी पढ़े: IPL 2020 छोड़ने पर आया रैना का बयान, बोले – जो मेरे परिवार के साथ हुआ.. वो भयानक से परे
  • विदेश से आने वालों को सात दिन के लिए संस्थागत और इसके बाद 7 दिन होम क्वारेंटाइन रहना होगा।
  • गर्भवती महिलाओं, 65 साल से अधिक उम्र के लोगों और किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित लोगों को संस्थागत क्वारेंटाइन नहीं किया जाएगा। उन्हें 14 दिन के होम क्वारेंटाइन के लिए ही रखा जाएगा।
  • शादी समारोह में 20 सितंबर तक 50 लोग ही शामिल हो सकेंगे। इसके बाद 100 लोग शामिल हो सकेंगे। अन्तिम संस्कार में 20 सितंबर तक केवल 20 लोग ही शामिल हो सकेंगे।
  • अनलॉक 4 में सरकार ने 21 सितंबर से धार्मिक, सामाजिक, राजनीतिक और अन्य प्रकार के कार्यक्रमों के आयोजन को भी अनुमति दी है। लेकिन इन कार्यक्रमों में 100 से अधिक लोग शामिल नहीं होंगे। वहीं मास्क, सोशल डिस्टेंसिग, थर्मल स्क्रीनिंग और अन्य जरूरी कोरोना संबंधी नियमों का पालन करना भी अनिवार्य होगा।
  • सिनेमा हॉल, स्विमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थिएटर ओपन एयर थिएटर के अलावा पर पाबंदी जारी रहेगी। लेकिन ओपन थिएटर को खोलने की अनुमति दी गई है।
  • कंटेंनमेंट वाले इलाकों को कोई छूट नहीं मिलेगी। यहां सख्ती से लॉकडाउन का पालन करना होगा।
  • अब जिलाधिकारी कंटेनमेंट जोन से बाहर वाले इलाकों में लॉकडाउन नहीं लगा सकेंगे। इसके लिए उन्हें पहले राज्य सरकार से आज्ञा लेनी होगी।
  • घर से बाहर जाने वालों को मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग अन्य कोरोना नियमों का पालन करना अनिवार्य है।