बाहरी राज्यों से उत्तराखण्ड आने वालों के लिए फिर जारी हुई नई गाइडलाइंस, क्वारेंटाइन के नियम बदले

Spread the love

उत्तराखण्ड में अनलॉक 4 लागू होने के बाद संक्रमण में अचानक आई तेजी से प्रदेश सरकार की मुसीबतें बढ़ गई हैं। संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रदेश सरकार के जल्दबाजी में लिए गए प्रयास नाकाफी साबित हो रहे हैं। इसी बीच सरकार ने एक बार फिर अनलॉक 4 के नियमों में बदलाव कर नई एसओपी जारी कर दी है। नए आदेश में प्रदेश सरकार ने बॉर्डर चेक पोस्ट, एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन और जिलों के सीमावर्ती बस अड्डों पर थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य कर दी है। इसकी व्यवस्था जिलाधिकारियों के लिए करने को कहा गया है। इसके अलावा सरकार ने बाहरी राज्यों से आने वालों के लिए क्वारेंटाइन जैसे कई नियमों में भी बदलाव किया है।

इसे भी पढ़े: अब उत्तराखण्ड आने वाले सभी लोगों को नहीं कराना होगा कोरोना टेस्ट, जारी हुआ आदेश… पढ़ें पूरी खबर
  • अब उत्तराखण्ड में 7 दिन से कम समय के लिए किसी जरूरी काम (व्यवसाय, परीक्षा, उद्योग, बीमारी आदि) के लिए आने वालों को कवारेंटाइन होने की जरूरत नहीं है।
  • 7 दिन से अधिक समय के लिए प्रदेश में आने वालों को 10 दिन के सेल्फ कवारेंटाइन रहना होगा।
  • सेना और अर्धसैनिक बलों के लिए 10 दिन के संस्थागत कवारेंटाइन पर रहना होगा।
  • इस दौरान यदि कोरोना संक्रमण के लक्षण किसी में मिलते हैं, तो वह स्थानीय स्वास्थ्य संस्थाओं से संपर्क करेंगे।
  • केंद्र सरकार व राज्य सरकार के मंत्री और न्यायाधीश आदि को कवारेंटाइन नहीं होना होगा।
  • राज्य सरकार के अधिकारियों को पांच से अधिक दिनों के बाद वापसी पर कोविड टेस्ट कराना होगा।
  • 5 दिन से कम समय के लिए प्रदेश से बाहर जाने वालों को वापसी पर कवारेंटाइन नहीं होना होगा।
  • यदि पांच दिन से अधिक समय के लिए प्रदेश से बाहर कोई जाता है, तो उसे वापसी पर 10 दिन के लिए होम कवारेंटाइन होना होगा।
  • लेकिन वहीं बाहर से आने वाला व्यक्ति यदि साथ में कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट साथ में रखता है, तो उसे कवारेंटाइन होने की जरूरत नहीं होगी।
  • विदेश से आने वालों को केंद्र सरकार की गाइडलाइंस का पालन करना होगा।
  • इसके अलावा पहले की तरह ही बाहरी राज्यों से आने वाले सभी लोगों को स्मार्ट सिटी वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करना अनिवार्य होगा।
  • प्रदेश में आने वाले सभी लोगों के मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु ऐप भी होनी चाहिए।
  • रजिस्ट्रेशन के समय जिन दस्तावेजों को मांगा जाएगा, वो सभी अपलोड करने होंगे।

इसके अलावा अब सरकारी नियमानुसार एक जिले से दूसरे जिले में जाने वालों को भी स्मार्ट सिटी वेब पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना होगा।

लिंक पर क्लिक करके जाने रजिस्ट्रेशन का आसान तरीका

इसे भी पढ़े: उत्तराखण्ड आ रहे हो तो आसानी से होगा स्मार्ट सिटी वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन, बस फॉलो करने होंगे ये स्टेप