उत्तराखंड: त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री पद से हटा सकती है बीजेपी, सीएम की रेस में हैं तीन नाम शामिल

Spread the love

उत्तराखंड में मुख्य मंत्री परिवर्तन की अटकलें दो दिन बाद आज सोमवार से फिर तेज हो गई हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सोमवार दोपहर दिल्ली पहुंच गए हैं।केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से उनकी आज मुलाकात होगी। वहीं, आज शाम को पार्लियामेंट्री बोर्ड की बैठक भी है। बैठक में इस बात पर फैसला होगा कि उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन किया जाए या फिर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को आगामी चुनाव तक बरकरार रखा जाए।उत्तराखंड के कई विधायकों की नाराजगी की वजह से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की कुर्सी पर खतरा बरकरार है।सूत्रों के मुताबिक, सीएम त्रिवेंद्र से कई विधायक नाराज बताए जा रहे हैं। कई विधायकों ने उनका खुला विरोध भी किया है। कुछ विधायकों का तो यहां तक कहना है कि अगर त्रिवेंद्र रावत के नेतृत्व में अगला विधानसभा चुनाव लड़ा गया तो राज्य में बीजेपी की सरकार बनना मुश्किल है।

मुख्य मंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा मुझे जानकारी नहीं

जब मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत से जब इस मामले में बात की गई तो उन्होंने इसकी जानकारी होने से साफ मना कर दिया। त्रिवेंद्र ने पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा, “मुझे नहीं पता खबरों में क्या चल रहा है। हालांकि, मैंने केंद्रीय नेतृ्त्व से मिलने के लिए समय मांगा है। उनके बुलाने पर मैं मिलने जाऊंगा।”

सीएम की रेस में हैं तीन नाम

 

वहीं अगर बात करे उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री की रेस में राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी, नैनीताल से लोकसभा सांसद अजय भट्ट और मंत्री सतपाल महाराज का नाम आगे चल रहा है। तीनों में से किसी एक नेता के नाम पर बीजेपी राज्य में अगला विधानसभा चुनाव लड़ सकती है। कहा जा रहा है कि सतपाल महाराज ने इस सिलसिले में संघ के प्रमुख नेताओं से मुलाकात भी की थी। संघ भी सतपाल महाराज के नाम को लेकर सकारात्मक है।अब देखना यह होगा को बीजेपी मुख्य मंत्री परिवर्तन करती है या अगले विधान सभा चुनाव तक त्रिवेंद्र सिंह रावत ही मुख्यमंत्री बने रहेंगे।