उत्तराखंड: छात्र के बाद अब शिक्षक भी मिले कोरोना पॉजिटिव, स्कूलों में मचा हड़कंप

Spread the love

उत्तराखंड में 2 नवम्बर को 10वी और कक्षा के छात्र छात्राओं के लिए स्कूल खोले गए। पहले दिन ज्यादा संख्या में छात्र स्कूल नहीं पहुंचे। स्कूलों में कोरोना वायरस से संबंधित सभी दिशानिर्देशों का पालन किया गया। बच्चो की थर्मल स्कैनिंग कराने के बाद ही स्कूल में जाने की अनुमति दी गई। 7 महीने के बाद स्कूल खुलने पर छात्र छात्राओं के साथ अध्यापकों में भी उत्साह देखा गया। मगर उत्तराखंड में स्कूल खोंले जाने के एक हफ्ते के भीतर ही सरकार की चिंता बढ़ गई । पहले रानीखेत के इंटर कॉलेज में छात्र के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की खबर मिली, अब श्रीनगर के स्कूल मे 3 शिक्षक के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की खबर ने सरकार को स्कूल खोलने के फैसले पर पुनर्विचार करने को मजबूर के दिया है।

इसे भी पढ़े: उत्तराखंड : स्कूल खुलने के पहले दिन ही स्कूल में मिला कोरोना पॉजिटिव छात्र, स्कूल में मचा हाहाकार

छात्र के बाद अब शिक्षक मिले कोरोना पॉजिटिव

7 महीनो के बाद सारे स्कूल खोले गए लेकिन स्कूल खोलने के बाद से ही कोरोना के केस लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं, अभी हाल में ही स्कूल खुलते ही रानीखेत में एक छात्र कोरोना संक्रमित मिला और अब श्रीनगर में विकासखंड खिर्सू के अंतर्गत सरकारी स्कूल के 3 शिक्षकों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद श्रीनगर में राजकीय इंटर कॉलेज देवलगढ़, राजकीय इंटर कॉलेज स्वीत और राजकीय हाईस्कूल श्रीकोट के एक-एक शिक्षक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। खंड शिक्षा अधिकारी पीएल भारती ने बताया कि शिक्षकों के संक्रमित निकलने की सूचना मिलते ही संबंधित स्कूलों को अगले आदेशों तक बंद कर दिया गया। स्कूलों का सैनिटाइजेशन किया जा रहा है। साथ ही उन्होंने  बताया कि हफ्ते- दस दिन बाद पठन-पाठन शुरू हो सकता है।

इसे भी पढ़े: बदल गया है गैस बुकिंग का नंबर, जाने अब किस नंबर पर फोन करके होगी गैस बुकिंग

सरकार ने इन नियमो के साथ स्कूल खोलने की दी है इजाजत

  • स्कूल जाने के इच्छुक छात्रों को अपने अभिभावकों से लिखित अनुमति लेनी होगी।
  • जो बच्चे स्कूल नहीं आ पाएंगे, उनके लिए ऑनलाइन क्लास जारी रहेगी।
  • खेलकूद और मनोरंजन संबंधी गतिविधियां नहीं होंगी।
  • प्रार्थना क्लास रूम में ही की जाएगी।
  • सभी छात्रों के बीच 6-6 फीट की दूरी होनी चाहिए।
  • सभी छात्रों को मास्क पहनना अनिवार्य होगा।
  • स्कूलों को सबसे पहले सनेटाइज करना जरूरी होगा।
  • सभी छात्रों को थोड़ी देर बाद साबुन से हाथ धोना पड़ेगा।