CAA को लेकर दिल्ली में हिंसक भीड़ ने वाहनों को जलाया, एक पुलिसकर्मी की मौत, 10 जिलों में धारा 144 लागू

CAA
Spread the love

नागरिकता संशोधन कानून के नाम पर होने वाले प्रदर्शन कुछ जगह अब हिंसा में बदलने लगे हैं। CAA के विरोधियों और समर्थकों के बीच हुई हिंसा को देखते हुए दिल्ली के 10 जिलों में धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस का मानना है कि यह हिंसा 8 किलोमीटर के क्षेत्र के अंदर हुई है। खराब माहौल के चलते दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने भी जाफराबाद और मौजपुर मेट्रो स्टेशनों के प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए हैं।

हेड कांस्टेबल की मौत

हिंसा के चलते दिल्ली पुलिस के एक हेड कांस्टेबल रतनलाल की मौत हो गई, जबकि शाहदरा के डीसीपी अमित शर्मा घायल हो गए हैं। घायल डीसीपी अमित शर्मा को पटपड़गंज के मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया है। शहीद हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल गोकुलपुरी एसीपी कार्यालय में तैनात थे।

बताया जा रहा है CAA के विरोधियों और समर्थकों के बीच फायरिंग भी हुई। वहीं प्रदर्शनकारियों ने 3 गाड़ियों को भी आग के हवाले कर दिया। जाफराबाद में भी प्रदर्शनकारियों द्वारा पत्थरबाजी होने से हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं। खबर है कि प्रदर्शनकारियों ने कई दुकानों को भी आग लगाने की कोशिश की। प्रदर्शन के दौरान एक युवक के पैर में और एक पुलिसकर्मी को भी गोली लगी है। इसके अलावा इलाके में पहुंचे मीडिया कर्मियों पर भी उपद्रवियों ने हमला किया।

लोग घरों में छुपने को मजबूर

जाफराबाद में भीड़ के हिंसक होने के बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े। जिसके बाद उपद्रवी भीड़ ने करीब 1 घंटे तक आसपास के घरों पर पत्थर बरसाए। साथ ही कुछ लोगों को घर में जाकर पीटा। इलाके के लोग उपद्रवियों से बचने के लिए अपने घरों में दुबक कर बैठने के लिए मजबूर हैं।

मुख्यमंत्री ने की शांति बनाने की गुजारिश

इस घटना पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट करके दुख जताया। साथ ही उन्होंने एलजी और ग्रह मंत्रालय से लॉ एंड ऑर्डर को ठीक करने और दिल्ली में शांति स्थापित करने की गुजारिश की।