कोरोना से लड़ाई में उत्तराखंड की बड़ी कामयाबी, इस मामले में अन्य राज्यों से निकला आगे

Spread the love

पूरी दुनियां में कोरोना वायरस का कहर बढ़ता जा रहा है। अमेरिका, जर्मनी, ब्रिटेन और इटली जैसे बड़े देश भी इस महामारी के सामने पस्त हो गए हैं। भारत में भी वायरस ने तेजी से फैलना शुरू कर दिया है। संक्रमण के प्रभाव को रोकने के लिए पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन भी लागू किया गया था, जिसकी अवधि 14 अप्रैल को खत्म होनी है। इसके बावजूद देश के कई राज्यों में कोरोना संक्रमितों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है। लेकिन इसके विपरीत उत्तराखंड एक ऐसा राज्य है, जहां लॉकडाउन का पॉजिटिव प्रभाव दिखना शुरू हो गया है।

जहां एक तरफ पूरा भारत कोरोना वायरस के बढ़ते संकट से जूझ रहा है, तो वहीं उत्तराखंड इस पर काबू पाने में कामयाब हो गया है। देवभूमि के नाम से जाना जाने वाले इस राज्य में पिछले 5 दिनों से एक भी कोरोना पॉजिटिव केस सामने नहीं आया है। इसके अलावा राज्य में 7 संक्रमितों का सफतापूर्वक इलाज भी कर दिया गया है। इसके बाद अब उत्तराखंड में कुल 28 मरीज बचे हैं। अच्छी खबर यह भी है कि यहां अभी तक कोरोना से एक भी मौत नहीं हुई है।

उत्तराखंड में इस तरह से बढ़ाया गया लॉक डाउन

केंद्र सरकार द्वारा जारी किए गए लॉक डाउन की अवधि 14 अप्रैल को खत्म होनी है। लॉक डाउन को आगे जारी रखने को लेकर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत समेत कई अन्य राज्यों के मुख्यमत्रियों ने पीएम से आग्रह किया था। उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, राजस्थान, पंजाब समेत कुछ राज्यों ने लॉक डाउन को बढ़ाकर 30 अप्रैल तक कर दिया है।

इसे भी पढ़े- कोरोना के संकट के बीच इंसानियत की जीत, मुस्लिम पड़ोसियों ने किया हिन्दू बुजुर्ग....

उत्तराखंड में लॉकडाउन बढ़ाने के लिए सभी जिलों को (A और B) दो वर्गों में बांटा गया है।
A वर्ग- इस वर्ग में वे जिले हैं, जिनमें अभी तक कोई भी कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिला है। इन राज्यों की लॉकडाउन में कुछ रिहायतें दी जाएंगी।
B वर्ग- इस वर्ग में वे जिले हैं, जिनमें कोरोना पॉजिटिव मरीज मिल चुके हैं। इन जिलों में सभी तरह के प्रतिबंध जारी रहेंगे और लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया जाएगा।