उत्तराखण्ड: पर्यटकों के लिए आसान हुई राह, फिर से बदली गाइडलाइन

Spread the love

लॉकडाउन के दौरान उत्तराखण्ड में पर्यटकों का आना बंद था, लेकिन बाद में अनलॉक के साथ ही पर्यटकों को आने की अनुमति मिल गई थी। संक्रमण के खतरे को देखते हुए प्रदेश सरकार ने पर्यटकों को प्रदेश में आने के लिए कई शर्तें भी रखी। हालांकि संक्रमण में का खतरा अभी भी बरकरार है, लेकिन प्रदेश सरकार ने अब नियमों में बदलाव कर पर्यटकों को बड़ी राहत दे दी है।

दरअसल सरकार ने बाहरी राज्यों से प्रदेश में आने वाले पर्यटकों के लिए कोरोना जांच रिपोर्ट अनिवार्य की सूची से हटा दी है। अब पर्यटक बिना कोरोना टेस्ट रिपोर्ट के प्रदेश में आ सकते हैं। इसके अलावा प्रदेश सरकार ने दो दिन होटल और होम स्टे में रुकने का प्रतिबंध भी हटा दिया है। अब उत्तराखण्ड आने वाले पर्यटकों को इन दो नियमों का पालन करना अनिवार्य नहीं होगा। सरकार की यह नियमावली 23 सितंबर से शुरू हो गई है।

इसे भी पढ़े: स्मार्ट सिटी वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन के लिए बस फॉलो करे ये स्टेप

सरकार के इस फैसले से पर्यटन उद्योग से जुड़े व्यापारियों को काफी उम्मीद हैं। दरअसल इससे पहले दूसरे राज्यों से आने वाले पर्यटकों को प्रदेश में एंट्री करते वक्त आईसीएमआर द्वारा प्रमाणित लैब से कोविड जांच रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य था। वहीं उत्तराखण्ड आने से पहले पर्यटकों को दो दिन का होम स्टे या होटल बुकिंग कराना भी अनिवार्य था। लेकिन अब पर्यटकों को इन शर्तों से निजात मिल गई है।

पर्यटकों के लिए नई शर्त

नई शर्त के साथ उत्तराखण्ड आने वालों पर्यटकों को अब अनिवार्य रूप से केवल स्मार्ट सिटी वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। साथ ही होटल व होम स्टे और रेस्टोरेंट संचालकों को पर्यटकों की थर्मल स्क्रीनिंग, सैनिटाईजेशन व अन्य कोरोना संबंधी जरूरी नियमों का पालन करना होगा। इसी बीच यदि कोई पर्यटक संक्रमित पाया जाता है, तो इसकी जानकारी तुरंत जिला प्रशासन को देनी होगी।

इसे भी पढ़े: दूसरे राज्यों से उत्तराखण्ड आने वालों के लिए बदले क्वारेंटाइन के नियम, पढ़ें पूरी खबर

क्या होगा फायदा?

हालांकि सरकार ने ये फैसला तब लिया है, जब प्रदेश लगातार संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। लेकिन सरकार के नए आदेश से उत्तराखण्ड होटल एसोसिएशन काफी खुश है। दरअसल वर्तमान में प्रदेश में केवल 10 फीसदी पर्यटन ही शुरू हो पाया है। वहीं हिमांचल प्रदेश और राजस्थान जैसे अन्य राज्यों द्वारा ये प्रतिबंध पहले ही हटाए का चुके हैं। जिसके बाद वहां करीब 30 से 40 फीसदी पर्यटन शुरू हो चुका है। उत्तराखण्ड सरकार के इस फैसले के बाद यहां भी 30 से 40 फीसदी पर्यटन बढ़ने की उम्मीद है।