इंदौर- स्वास्थ्यकर्मियों पर हुए पथराव के लिए मुस्लिम संगठनों ने विज्ञापन छपवाकर मांगी माफी, लिखा- ‘हम शर्मिंदा हैं’

Spread the love

मध्य प्रदेश के इंदौर में बीते दिनों कोरोना संक्रमितों को जांच के लिए पहुंचे स्वास्थ्यकर्मियों पर एक भीड़ ने पथराव किया था। यह घटना इंदौर के टाटपट्टी बाखल इलाके में हुई थी। ऐसे कठिन समय में स्वास्थ्य विभाग की टीम पर पथराव करना बेहद निराशाजनक था। चूंकि पथराव करने वाले ये व्यक्ति मुस्लिम समुदाय से थे, इसलिए घटना से पूरे देश के मुस्लिम समुदाय के लोगों को शर्मिंदा होना पड़ रहा था। ऐसे में इंदौर के अनेक मुस्लिम संगठनों ने इस घटना के बाबत एक विज्ञापन छपवाकर डॉक्टर्स और नर्स सहित तमाम लोगों से माफी मांगी है।

माफीनामे में लिखा है, ‘डॉ. तृप्ति कटारिया, डॉ. जकिया सैयद, समस्त डॉक्टर, नर्सों, मेडिकल टीम, शासन-प्रशासन के समस्त अधिकारी, सभी पुलिसकर्मी, सभी आशा-आंगनबाड़ी, संस्थाएं एवं सभी लोग जो कोरोना के बचाव में लगे हैं, हमारे पास अल्फ़ाज़ नहीं है जिनसे हम आपसे माफ़ी मांग सके। यकीन कीजिए, हम शर्मशार हैं हर उस अप्रिय घटना के लिए जो जाने अंजाने अफवाहों में आकर हुई हैं।’

Mafinama of muslims

‘रब के बाद आप ही हैं’

माफीनामे में आगे है कि, ‘हम इकरार करते हैं कि उस रब के बाद आप लोग ही हैं, जो हमेशा हमारी बीमारी में, हर मुश्किल समय में हमारे लिए दीवार बनकर खड़े रहे। इसलिए आज हम दिल से आप सभी से माफी मांगना चाहते हैं, हमें माफ कर दीजिए।’

‘पीछे जाकर सुधार नहीं सकते, लेकिन भविष्य के लिए वादा है’

माफीनामे में मुस्लिम संगठनों की ओर से आश्वासन देते हुए कहा गया है कि, ‘हम उस वक्त में पीछे जाकर उसे सुधार तो नहीं सकते लेकिन वादा करते हैं कि भविष्य में हर कमी को खत्म करने की हर संभव कोशिश करेंगे।’

ये भी पढ़ें- भारत में बनने जा रही कोरोना वायरस की वैक्सीन, जल्द शुरू होगा ट्रायल

बता दें कि टाटपट्टी बाखल में स्वास्थ्य कर्मियों पर हुए पथराव के बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि ‘इस घटना में शामिल लोगों को नहीं छोड़ा जाएगा।’ जिसके बाद हमले में शामिल लोगों पर पुलिस ने मामला दर्ज कर दिया है। साथ ही अन्य लोगों की वीडियो फुटेज के जरिए जांच की जा रही है।