उत्तराखण्ड: पिथौरागढ़ जिले में बादल फटने से कई घर बहे, 6 की मौत, 8 अभी भी लापता

Pithoragarh landslide, pithoragarh cloudburst
Spread the love

हर साल बारिश का मौसम उत्तराखण्ड के पहाड़ी इलाकों के लिए आफत बनकर बरसता है। सोमवार की रात हरिद्वार के हर की पौड़ी में बिजली गिरने से नुकसान की घटना सामने आई। इससे पहले रविवार को उत्तराखण्ड के पिथौरागढ़ जिले में भी बड़ा हादसा हुआ था। यहां बादल फटने के बाद हुए भूस्खलन से कई घर ध्वस्त हो गए। ये घटना पिथौरागढ़ से 93 किलोमीटर दूर बंगापानी तहसील के टांगा और गैला गांव में रविवार देर रात को हुई।

Pithoragarh landslide, pithoragarh cloudburst

गैला गांव में भूस्खलन के कारण दंपती और बेटी की मौत और पांच लोग घायल हुए। वहीं टांगा मुनियाल गांव में 11 लोग लापता थे। इनमें से दो पुरुष और एक महिलाओं के शव मंगलवार को बरामद हुए।

इसे भी पढ़े: पहाड़ी इलाकों के बाद अब हरिद्वार में गिरी आसमानी आफत

Pithoragarh landslide, pithoragarh cloudburst

बादल फटने की ये घटना इतनी भयानक थी कि टांगा के ऊपर पहाड़ी पर कई खतरनाक दरारे भी पड़ गई हैं। इसके कारण पहाड़ी का नीचे गिरने का खतरा बन गया है। जिससे पूरे गांव का वजूद खतरे में पड़ गया है। आपदा प्रबंधन, राजस्व विभाग और एसडीआरएफ की टीमें राहत और बचाव कार्य में लगी हुई हैं।

इसे भी पढ़े: असम और बिहार बाढ़ से बेहाल, लाखों लोग..

Pithoragarh landslide, pithoragarh cloudburst

घटना वाली रात को 12 बजे जोरदार बारिश के कारण गांव के ऊपर वाली पहाड़ी में भूस्खलन हो गया। भूस्खलन के मलबे के रास्ते में जितने घर पड़े वह सभी को ध्वस्त करता हुआ खेतों की ओर ले गया। घटना के वक्त घना अंधेरा था, जिससे लोग अपना बचाव भी नहीं कर पाए।

इसे भी पढ़े: राज्य में 103 इलाके ऐसे भी हैं, जहां पूरे सप्ताह पाबंदी जारी रहेगी

Pithoragarh landslide, pithoragarh cloudburst

उत्तराखण्ड में बारिश के मौसम के चलते कई जगह अलर्ट जारी किया गया है। हर दिन कहीं न कहीं से हादसे की घटनाएं सामने आ रही हैं। बीते सोमवार की रात को हरिद्वार में भी बिजली गिरने से खासे नुकसान की घटना सामने आई।