IPL: 16 मई आईपीएल इतिहास का काला दिन, कई खिलाड़ियों की हुई थी गिरफ्तारी

Spread the love

IPL दुनिया भर में पसंद की जाने वाली सबसे मशहूर लीग बन चुकी है। इस लीग ने भारतीय टीम के लिए युवाओं की कतार लगा दी है। यह सब IPL की बदौलत ही संभव हुआ कि भारत के पास आज युवा खिलाड़ियों की एक फौज तैयार है। दुनियाभर के खिलाड़ी इस लीग में अपना दमखम दिखाने आते हैं। लेकिन IPL के इतिहास में 16 मई एक काले दिवस में रूप में अंकित है। इस दिन यह लीग फिक्सिंग के चलते आरोपों में घिर गई थी।

इसे भी पढ़े: IPL 2021 के बचे मैच कब और कहां होंगे, जाने सौरव गांगुली ने क्या कहा

कई खिलाड़ियों की हुई थी गिरफ्तारी

छठे सीजन में फूटा था फिक्सिंग का बम आईपीएल के छठे सीजन में फिक्सिंग का बम फूटा था और कई खिलाड़ी लपेटे में आए थे और उन्हें गिरफ्तार किया गया था। राजस्थान के तीन खिलाड़ी एस. श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजीत चंडीला इसमें फंसे थे और दिल्ली पुलिस ने इन तिनों को सट्टेबाजों से मिले होने के चलते गिरफ्तार किया था। गुरुनाथ मरियप्पन हुए थे गिरफ्तार बीसीसीआई के अध्यक्ष और चेन्नई सुपर किंग्स टीम के प्रिंसिपल एन. श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मरियप्पन को भी धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

इसे भी पढ़ें: इंग्लैंड की नागरिकता लेकर IPL खेलेंगे पाकिस्तान के मोहम्मद आमिर

इन खिलाड़ियों का हुआ था करियर बर्बाद

इन खिलाड़ियों का हुआ कॅरियर बर्बाद आईपीएल में सट्टेबाजी के लगे आरोपों से बीसीसीआई ने तीन खिलाड़ियों को बैन कर दिया था जिससे उनका पूरा क्रिकेट कॅरियर चौपट हो गया था। श्रीसंत ने हालांकि अपने ऊपर लगे बैन के खिलाफ लंबी लड़ाई लगी और वह क्रिकेट में वापसी करने में सफल रहे। वह केरल के लिए विजय हजारे ट्रॉफी-2021 में भी खेले थे। चव्हाण और चंदेला कॅरियर खत्म श्रीसंत के अलावा अंकित चव्हाण और अजित चंदेला पर फिक्सिंग के आरोप लगे थे जिसके बाद उनका क्रिकेट कॅरियर खत्म हो गया। दिल्ली कोर्ट ने इन दोनों को क्लीन चिट तो दे दी थी, लेकिन बीसीसीआई ने इनके ऊपर लगे बैन को नहीं हटाया था।