एन्क्रिप्शन के बावजूद सरकार निकाल लेती है आपका डिलीट किया गया डाटा और प्राइवेट व्हाट्सएप चैट ? जानिए कैसे करें बचाव

whatsapp encryption
Spread the love

प्रत्येक व्हाट्सएप चैट में एक सुरक्षा कोड होता है जो उस कॉल को वेरीफाई करने के लिए उपयोग किया जाता है और उस चैट पर भेजे गए मैसेज एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड होते हैं, जिसका मतलब है कि मैसेज केवल भेजने वाले और रिसीव करने वाले को ही दिखाई देगा,और कोई तीसरा इसे एक्सेस नही कर सकता, यहां तक कि WhatsApp भी नहीं।

व्हाट्सएप का उपयोग दुनिया भर में दो बिलियन से अधिक यूजर द्वारा किया जाता है, इसलिए मैसेजिंग प्लेटफॉर्म को सुरक्षित रखना अत्यंत महत्वपूर्ण है

पिछले कुछ दिनों और हफ्तों से, रिपोर्ट्स ने बॉलीवुड एक्टर्स के व्हाट्सएप चैट को ड्रग जांच में दिखाया है। नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने बॉलीवुड के ड्रग लिंक की जांच के लिए प्राइवेट चैट पर भरोसा किया है। इससे यह सवाल आना स्वाभाविक है कि क्या एंड -टू-एंड एन्क्रिप्शन चैट को सुरक्षित रखने में काम भी करता है, और कैसे एजेंसियां डिलीट किये गए चैट को वापिस लाने में कामयाब हो गयी ।

क्या है साइबर सुरक्षा एक्सपर्ट्स की राय?

एक्सपर्ट्स का कहना है कि वह यूजर ही होता है जो अपनी चैट को सुरक्षित रखने के लिए उचित उपायों का पालन नहीं करता ।

इसे भी पढ़े: SBI का बड़ा ऐलान, अब बिना मोबाइल के नहीं निकल सकेंगे ATM से पैसे

समस्या

व्हाट्सएप लॉग

व्हाट्सएप आपको एक मैसेज को हमेशा के लिए डिलीट करने का ऑप्शन देता है, लेकिन होता ऐसा है कि वास्तव में मैसेज हर जगह से पूरी तरह से डिलीट नहीं किया जाता । साइबर सुरक्षा सर्विस प्रोवाइडर McAfee के अनुसार, व्हाट्सएप आपके डिवाइस में आपकी चैट का एक लॉग रखता है, जो “फोरेंसिक ट्रेस” के रूप में काम करता है।

Google ड्राइव या ऐसे किसी भी क्लाउड पर बैक-अप मैसेज

ध्यान दे, कि Google ड्राइव या ऐसी किसी भी cloud सेवाओं पर मीडिया और मैसेज का बैकअप व्हाट्सएप के एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन द्वारा सुरक्षित नहीं है। तो CBI या NCB जैसी एजेंसियां डिलीट किये गए चैट तक आसानी से पहुंच सकती हैं।

मोबाइल फोन क्लोनिंग तकनीक

मोबाइल फोन क्लोनिंग तकनीक से डेटा और डिवाइस की सेलुलर पहचान को एक नए फोन में कॉपी किया जा सकता है। यह एक ऐप की मदद से और फोन को बिना एक्सेस किये हो सकता है। इस प्रक्रिया में, IMEI ट्रांसफर भी हो सकता है। आपको ध्यान देना चाहिए कि मोबाइल फोन क्लोनिंग आम जनता के लिए गैरकानूनी है, लेकिन NCB जैसी एजेंसियां हमेशा किसी डिवाइस पर स्टोर डाटा तक वैध रूप से पहुंचने के लिए फोरेंसिक मार्ग अपना सकते हैं।

इसे भी पढ़े: घर बैठे 10 मिनट में बनाएं अपना पेन कार्ड

व्हाट्सएप का जवाब

एक व्हाट्सएप प्रवक्ता द्वारा जारी किए गए एक बयान में, कंपनी ने हाल ही में चल रहे प्राइवेट डिबेट के बारे में कहा, “व्हाट्सएप आपके मैसेज को एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के साथ सुरक्षित रखता है ताकि आप और जिस व्यक्ति के साथ आप चैट कर रहे हैं केवल वही भेजे गए मेस्सगे को मैसेज सके, इसके अलावा और कोई भी इसे बीच में एक्सेस नहीं कर सकता हैं, यहां तक कि व्हाट्सएप भी नहीं।
यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि लोग केवल फोन नंबर का उपयोग करके व्हाट्सएप पर साइन अप करते हैं, और व्हाट्सएप की आपके मैसेज तक पहुंच नहीं है।
हम किसी भी थर्ड पार्टी को डिवाइस पर स्टोर जानकारी तक पहुंचने से रोकने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम के मजबूत पासवर्ड या बायोमेट्रिक आईडी द्वारा दी गयी सभी सुरक्षा सुविधाओं को उपयोग करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करते हैं। ”

अपने व्हाट्सएप डाटा को लीक होने से कैसे बचाये?

कभी भी चैट के स्क्रीनशॉट न लें

व्हाट्सएप के मैसेज एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड होते हैं। एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन यह सुनिश्चित करता है कि केवल भेजने और रिसीव करने वाला ही मैसेज को पढ़ सकता हैं। इसका मतलब है कि आपकी चैट को किसी तीसरे व्यक्ति द्वारा इंटरसेप्ट नहीं किया जा सकता है। हालाँकि, यूजर स्वयं को जोखिम में डालते हैं यदि वे अपनी चैट के स्क्रीनशॉट लेते हैं या चैट का बैकअप लेते हैं, क्योंकि यह आपके मोबाइल में स्टोर होता है जो किसी दूसरी ऐप्स द्वारा एक्सेस किया जा सकता है।

चैट का बैकअप लेना यूजर को जोखिम में डाल सकता है इसलिए बैकअप बंद कर दे

चैट का बैकअप लेना सुरक्षित नहीं है। 2018 में, व्हाट्सएप ने एक अपडेट में कहा था, “मीडिया और आपके द्वारा Google ड्राइव में भेजे गए संदेशों को व्हाट्सएप द्वारा एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन द्वारा सुरक्षित नहीं किया गया है।” cloud पर बनाए गए बैकअप एन्क्रिप्टेड नहीं हैं। इसलिए, यदि कोई आपके cloud डेटा को हैक करता है, तो आपकी चैट असुरक्षित है। ”

रिपेयर के लिए अपना फोन देते समय अपना पासवर्ड कभी शेयर न करें

आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आप अपने फ़ोन का पासवर्ड शेयर न करें। अपने पुराने डिवाइस को बेचते समय, फाइलों को एन्क्रिप्ट करें और फिर फ़ैक्टरी रीसेट करें

इसे भी पढ़े: PUBG Lover’s के लिए खुशखबरी, भारत में जल्द हो सकती है वापसी

अपने सभी ऐप को अपडेट करते रहें

आप आटोमेटिक अपडेट पर ऑन कर सकते हैं ताकि ऐप की सिक्योरिटी अपडेट हो जाए। दुनिया भर में बहुत सारे मालवेयर और स्पाईवेयर है जो आपके डिवाइस पर अटैक करते सकते है। यही कारण है कि अपने फोन और कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ-साथ उनके सारे ऐप्स भी अपडेट करना जरूरी है।

मीडिया ऑटो-डाउनलोड बंद करें

वायरस आपके कंप्यूटर पर ईमेल अटैचमेंट से इंस्टॉल होते हैं। आप ईमेल अटैचमेंट डाउनलोड नहीं करते हैं। आपके फोन पर कुछ ऐसा ही होता है, खासकर व्हाट्सएप पर। इसे ‘मीडिया ऑटो-डाउनलोड’ कहा जाता है। एक अजनबी आपको एक फोटो या वीडियो भेजता है, यह खुद से ही आपकी फोटो गैलरी में डाउनलोड हो जाता है, और आपके फोन पर मालवेयर इंस्टॉल करता है। मीडिया ऑटो-डाउनलोड विकल्प को बंद करने से मेमोरी को बचाने में भी मदद मिलेगी।

क्या कोर्ट में व्हाट्सएप चैट मान्य है?

हाँ, एक अतिरिक्त सबूत के रूप में, यहां तक कि किसी मामले में एजेंसी डिजिटल फोरेंसिक का संचालन करती सकती है और आपके फोन के डेटा को किसी अन्य डिवाइस पर क्लोन करती सकती है

 

6 thoughts on “एन्क्रिप्शन के बावजूद सरकार निकाल लेती है आपका डिलीट किया गया डाटा और प्राइवेट व्हाट्सएप चैट ? जानिए कैसे करें बचाव

  1. Some genuinely fantastic work on behalf of the owner of this website , absolutely outstanding subject matter.

Leave a Reply

Your email address will not be published.