असम और बिहार बाढ़ से बेहाल, लाखों लोग घर छोड़ने को मजबूर, तस्वीरों में देखें तबाही का मंजर

Spread the love

तपती गर्मी के बाद अब बारिश का मौसम आ गया है। कई लोगों के लिए जरूर ये गर्मी से राहत देने वाला मौसम होगा तो कईयों के लिए पीने के पानी की समस्या दूर करने वाला मौसम भी होगा। लेकिन बारिश का ये मौसम कई लोगों के लिए बहुत बड़ी आफत बनकर भी आता है। दरअसल ये मौसम सबसे अधिक लोगों को प्रभावित करता है। कई जगह बारिश की वजह से बाढ़ आ जाती है। जिससे लाखों लोगों को अपने घर तक छोड़ने पड़ जाते हैं।

इस वक्त ऐसा ही कुछ हाल भारत के बिहार और असम राज्यों में है। इन दोनों राज्यों में बाढ़ के कारण हाहाकार मचा हुआ है। हाल इतने बुरे हैं कि सैकड़ों गांव डूब गए हैं, लाखों लोग बेघर हो गए हैं। आफत यहीं खत्म नहीं होती। बारिश के कारण इन लोगों पर डेंगू, चिकनगुनिया, मलेरिया जैसी जानलेवा बीमारियों का खतरा भी बढ़ रहा है। तो वहीं जिन जगहों पर ये लोग अपने घर छोड़कर रुके हैं, वहां सांप और बिच्छू जैसे खतरनाक जीवों का भी डर है। पूरे के पूरे गांव जलमग्न हैं और पानी कब तक उतरेगा इसका भी कोई अंदाजा नहीं। कोई भी यदि बीमार हो जाता है तो उन्हें नाव के सहारे ही डॉक्टर के पास ले जाया जा रहा है। साथ ही खाना और पीने के पानी की समस्या भी बनी हुई है।

इसे भी पढ़े: सिर मुंडवाकर नेपाली पीएम के खिलाफ नारे लगाने वाले शख्स को..

असम में 70 लाख लोग प्रभावित

Bihar flood 2020, asam flood 2020

असम की बात करें तो यहां लगातार तेज बारिश से ब्रह्मपुत्र नदी प्रलयकारी रूप ले चुकी है। असम के सीएम सर्वानंद सोनोवाल ने बताया है कि यहां करीब 70 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। बारिश के कारण पहाड़ी इलाकों में लगातार भूस्खलन भी हो रहे हैं। असम में अभी तक 110 लोगों की मौत की खबर है। जिनमें से 84 बाढ़ के कारण मरे तो वहीं 26 को मौत भूस्खलन के कारण हुई। राज्य के 2633 गांव बाढ़ की चपेट में हैं। 1.14 लाख हेक्टेयर खेत पानी में समाए हुए हैं। 47000 से ज्यादा लोग मजबूरन 287 रिलीफ कैंप में जीवन गुजार रहे हैं।

इसे भी पढ़े: IPL क्रिकेट फैंस के लिए खुशखबरी

बिहार का ये इलाका बना समंदर

Bihar flood 2020, asam flood 2020

हर साल बारिश के मौसम में बिहार में नदियां उफान मारने लगती हैं, जो बाढ़ का खतरा बन जाती हैं। लेकिन बिहार सरकार कभी भी बरसात से पहले न तो इन नदियों को सीमा में रखने के लिए कुछ इंतजाम करती है और न ही बाढ़ के खतरे को देखते हुए कुछ तैयारियां करती है। बिहार में इस वक्त 8 जिलों में बाढ़ से भारी तबाही मची हुई है। यहां बागमती नदी और कमला बलान नदी अपने रौद्र रूप में हैं। बाढ़ के कारण दरभंगा का कुशेश्वर इलाका समंदर बन गया है।

Bihar flood 2020, asam flood 2020

इसे भी पढ़े: एक शख्स ने सुशांत की आत्मा से बात करने का किया दावा, वीडियो वायरल

बिजली गिरने से 160 से ज्यादा मौतें

बाढ़ के साथ-साथ बिहार के लिए बिजली गिरने का खतरा भी लगातार बना हुआ है। रविवार को भी राज्य में 9 लोगों की मौत बिजली गिरने से हुई। इससे पहले भी बिजली गिरने से लगातार मौतों की घटनाएं सामने आती रही हैं। पिछले तीन हफ्तों की बात करें तो बिहार में बिजली गिरने से 160 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

काजीरंगा पार्क में 108 जानवरों की मौत

Asam flood 2020, buhar flood 2020

बाढ़ के कारण परेशानी सिर्फ इंसानों को नहीं झेलना पड़ रही है, बल्कि जानवरों को भी इससे दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। असम का काजीरंगा नेशनल पार्क में बाढ़ के कारण 90 फीसदी तक डूब चुका है। इसके कारण 108 जानवरों की मौत भी हो गई है। हालांकि 136 जानवरों को सुरक्षित बचा भी लिया गया है। बाढ़ के कारण जानवर भी ऊंचे स्थानों की तरफ रुख कर रहे हैं। वहीं कई हाथी और गैंडे पार्क से निकलकर हाईवे पर पहुंच गए हैं।