क्या आपके व्हाट्सएप पर भी आया है अमेजन के फ्री गिफ्ट का लिंक?

Fake whatsapp Message
Spread the love
साइबर क्राइम की दुनिया में आजकल आपको लूटने के रोजाना नये-नये तरीके ईजाद किये जा रहे हैं। ऐसे में सावधानी ही सुरक्षा की गारंटी है। चूंकि व्हाट्सएप सबसे ज्यादा इस्तेमाल किये जाने वाला ऐप है, इसलिए जालसाजों की निगाहें भी इसी से जुड़े भोले-भोले लोगों पर है। इन दिनों Whatsapp पर एक मैसेज बड़ी तेजी से सर्कुलेट हो रहा है, जिसमें आपसे एक सर्वे का फॉर्म भरने को कहा जाता है और अमेजन के फ्री गिफ्ट का वादा किया जाता है।

खतरा क्या है?

आपको बता दें कि ये फेक मैसेज है और अमेजन ने ऐसी कोई स्कीम नहीं निकाली है। अगर आपने फ्री गिफ्ट के लालच में ये सर्वे भर दिया, तो आपकी तमाम पर्सनल जानकारियां जालसाजों के पास पहुंच जाएंगी और आप बड़े फर्जीवाड़े का शिकार हो सकते हैं।

कैसे ली जाती है जानकारी?

व्हाट्सअप पर भेजे गये इस फेक मैसेज में एक URL होता है, जिस पर क्लिक करने से फ्री गिफ्ट का वादा किया जाता है। जैसे ही आप URL पर क्लिक करेंगे, एक सर्वे पेज खुल जाएगा। इस पेज के जरिए आपसे तमाम पर्सनल जानकारियां, जैसे उम्र, जेंडर, किस तरह का फोन इस्तेमाल करते हैं, अमेजन की सेवा को कितनी रेटिंग देंगे, आदि। शुरुआत में आपको ये जानकारियां मामूली लगेंगी और इनको देने में किसी तरह का नुकसान नहीं लगेगा। लेकिन असली कहानी इसके बाद शुरु होती है।

कैसे फंसते हैं यूजर्स?

खास बात ये है कि इसमें एक टाइमर लगा होता है, जिससे आप जल्द-से-जल्द इसे पूरा करने की कोशिश करें। जाहिर है इसकी वजह से आपक सावधानी घट जाती है और आप कुछ अहम जानकारी भी शेयर कर देते हैं। आखिर में कुछ गिफ्ट बॉक्स दिखेंगे, जिन्हें क्लिक करने पर आपको बताया जाएगा कि आप एक शानदार स्मार्टफोन जीत चुके हैं। लेकिन इस गिफ्ट को पाना भी आसान नहीं है। इसके लिए आपको ये मैसेज 5 व्हाट्सएप ग्रुप या 20 व्यक्तिगत कॉन्टैक्ट को शेयर करना होगा।

क्या होता है नुकसान?

आप चाहे यकीन करें या ना करें, ये गिफ्ट दरअसल किसी को नहीं मिलता, क्योंकि ये URL ही फेक है। लेकिन ज्यादातर यूजर्स इसे समझ नहीं पाते और गिफ्ट के लालच में खुद तो फंसते ही हैं, अपने दोस्तों को मैसेज फॉरवर्ड कर उन्हें भी फंसा देते हैं। इस मामले में एक बचने का एक सीधा उपाय ये है कि इंटरनेट पर कुछ भी फ्री मिले, तो समझिये यहां खतरा है। दूसरा अगर आप URL के लिंक पर गौर करेंगे, तो उसमें कई ऐसे फर्जी या जंक कैरेक्टर दिखेंगे, जो सामान्य तौर पर वैलिड URL में नहीं दिखते। शंका हो तो कंपनी के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं। अगर कोई ऑफर होगा तो सबसे पहले उनकी बेवसाइट पर लिंक आएगा। ध्यान रखें, मुफ्त में मिलनेवाली चीजें अक्सर नुकसानदेह होती हैं।