कश्मीर में शांत माहौल में अदा हुई ईद-उल-अदहा नमाज, लोगों के लिए घर तक पहुंचाया गया जरूरी सामान

eid ul adah in kashmir
Spread the love

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद से घाटी में माहौल शांत बनाये रखने के लिए सरकार द्वारा तमाम संभव प्रयास किये जा रहे हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी घाटी में आम लोगों से मिलकर हालात का जायजा ले रहे हैं। जगह-जगह सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है। वहीँ आज 12 अगस्त को ईद-उल-अदहा भी है। ऐसे माहौल में जब खरीददारी के लिए बाजार और सड़कों पर लोगों की भारी भीड़ दिखती थी, जम्मू-कश्मीर सुनसान रहा। यहाँ कड़ी सुरक्षा और कई तरह के प्रतिबंधों के बीच ईद मनाई जा रही है। ईद की नमाज के लिए श्रीनगर की छोटी-छोटी और कुछ बड़ी मस्जिदों को खोला गया, लेकिन अधिंकांश बड़ी मस्जिदों में नमाज की अनुमति नहीं दी गई।

तमाम अफवाहों और हिंसा की ख़बरों के बाद जब आज नमाज हुई तो जम्मू-कश्मीर पुलिस ने ट्वीट कर बताया कि ईद की नमाज शांतिपूर्ण रही। इस पर सरकार की तरफ से भी एक ट्वीट आया। गृह मंत्रालय की प्रवक्ता वसुधा ने ईद की मिठाई बांटते हुए लोगों की तस्वीरें शेयर करते हुए लिखा कि, ‘अनंतनाग, बारामुला, बडगाम, बांदीपोर के सभी स्थानीय मस्जिदों में ईद की नमाज बिना किसी अप्रिय घटना के अदा हुई।’ बताया गया है कि बारामुला की जामिया मस्जिद में लगभग 10,000 लोगों ने नमाज अदा की।

 

also read::

इधर जम्मू-कश्मीर का पुनर्गठन बिल पास, तो उधर महबूबा मुफ़्ती और उमर अब्दुल्ला पुलिस कस्टडी में

बता दें कि घाटी में फोन और इंटरनेट की सुविधाएँ अभी भी बंद हैं। लोगों से घर से बाहर निकलने के लिए भी मना किया जा रहा है। ईद को ध्यान में रखते हुए अधिकारियों ने बताया कि श्रीनगर शहर में छः मंडी/बाजार लगाए गए थे। साथ ही सब्जियां, जैस सिलिंडर, मुर्गे-मुर्गियां और अंडे जैसे अन्य जरूरी सामान लोगों के घरों तक पहुंचाने के लिए वाहनों का भी इंतजाम किया गया था।