भारत की बढ़ती खतरनाक शक्ति से चीन-पाकिस्तान में खलबली, 35 दिन में 10 घातक मिसाइलों का सफल परीक्षण

Spread the love

लद्दाख में चीन के साथ हुए विवाद के बाद भारत सरकार अपने रक्षा तंत्र को मजबूत करने में जुट गया है। भारत लगातार मिसाइल और ताकतवर हथियारों का परीक्षण कर रहा है। भारत ने पिछले 35 दिनों के अंदर 10 ऐसे ब्रह्मास्त्र हासिल कर लिए है, जो चीन और पाकिस्तान दोनों के लिए बहुत भारी साबित हो सकते है। भारत की इस सफलता की सबसे बड़ी बात है कि ये सभी हथियार स्वदेशी है।

इसे भी पढ़े: उत्तराखंड: दशहरा, दीपावली की तैयारी में जुटे हैं तो उससे पहले जान लें सरकार की नई गाइडलाइन

मात्र 35 दिनों में DRDO ने किया 10 मिसाइलों का सफल परीक्षण

DRDO ने पिछले 35 दिनों में 10 मिसाइल का सफल परीक्षण कर नया रिकॉर्ड कायम कर दिया है । भारत की यह सफलता देख चीन भी सोचने पर मजबूर हो गया कि भारत से तनाव बढ़ाकर कही उसने बड़ी गलती तो नहीं कर दी है? DRDO ने कई घातक मिसाइलों को भी अपग्रेड किया है। DRDO ने ब्रह्मोस की रेंज 290 किलोमीटर से बढ़ाकर 400 किलोमीटर करदी है।

पिछ्ले 35 दिनों में DRDO के परीक्षण की ये रफ्तार तो महज अभी शुरुआत है, DRDO आने वाले कुछ दिनों में भारत में ऐसी कई घातक मिसाइलों का परीक्षण कर सकता है। जिसके बाद चीन और पाकिस्तान दोनों का खौफ और बढ़ जाएगा।

इसे भी पढ़े: अटल टनल, दुनिया की सबसे लंबी सुरंग, लेह-लद्दाख की लाइफलाइन बनेगी यह टनल – मोदी

इन मिसाइलों का किया गया परीक्षण

  • 7 सितम्बर को भारत ने हायपर्सोनिक टेक्नोलॉजी (एसएसटीडीवी) का परीक्षण किया।
  • इसके बाद मिसाइल ब्रह्मोस के एक्सटेंडेड रेंज वर्जन का परीक्षण किया।
  • इसके बाद परमाणु संपन्न शौर्य सुपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया।
  • इसके बाद DRDO ने पृथिवी -2 का सफल परीक्षण किया।
  • यह भारत की पहली स्वदेशी सतह से सतह पर रणनितिक मिसाइल है।
  • 9 अक्टूबर को भारत ने पहली स्वदेशी एंटी रेडिएशन मिसाइल रुद्रम -1 का सफल परीक्षण किया। इस मिसाइल के मिलने के बाद भारतीय वायसेना की ताकत और बढ़ जाएगी।