कोरोना पर रिसर्च के बाद होने वाला था बड़ा खुलासा, तभी फ्लैट में मरा मिला ये चीनी रिसर्चर

Spread the love

आज पूरी दुनियां कोरोना वायरस के चलते संकट की स्थिति से जूझ रही है। एक ऐसा वायरस जिसका प्रकोप महीनों बाद भी दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। दुनियां भर में तबाही मचाने वाला ये वायरस चीन के वुहान शहर से फैलना शुरू हुआ था। ऐसे में कई देश चीन पर ही उंगली उठा रहे हैं। हालांकि चीन इसके फैलने में अपनी भूमिका वाले सभी दावों को दरकिनार कर देता है। लेकिन अब कोरोना पर रिसर्च करने वाले चीन के एक रिसर्चर की हत्या पर भी सवाल उठने लगे हैं।

दरअसल दावे के मुताबिक पिट्सबर्ग मेडिकल सेंटर में काम करने वाले चीन के रिसर्चर बिंग लिऊ ने इस ख़तरनाक वायरस पर एक बड़ी खोज कर ली थी। लेकिन इससे पहले कि बिंग लिऊ उसे सार्वजनिक करते, बिंग की फिल्मी अंदाज में 2 मई को गोली मारकर हत्या कर दी गई।

 

Chinese researcher Bing liu

ऐसे में चीन पर सवाल उठ रहे हैं कि बिंग लिऊ ने जब रिसर्च को सार्वजनिक करने की बात जाहिर की, तभी उनका मर्डर क्यों हुआ। बिंग ऐसा क्या बात बताने वाले थे, जो बात चीन के कुछ लोग बाहर नहीं लाना चाहते थे।

Corona research center

बता दें कि 37 साल के बिंग फ्लोरिडा के रॉस इलाके के अपने अपार्टमेंट में अकेले रहते थे। तभी एक शख्स ने उनके अपार्टमेंट में घुसकर उनकी गोली मार कर हत्या कर दी। वहीं बिंग लिऊ को मारने वाले शख्स ने बाद में खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी।

अमेरिका की एक रिपोर्ट के खुलासे के बाद मुसीबत में ट्रंप, जून में भयानक होगा कोरोना का कहर

University of Pittsburgh medical center

वहीं रिसर्चर बिंग की मौत पर युनिवर्सिटी ऑफ पिट्सबर्ग मेडिकल सेंटर ने भी दुख जताया। उन्होंने कहा कि बिंग लिऊ कोरोना वायरस पर शोध कर रहे थे और वो एक बड़ी खोज के करीब पहुंच गए थे। वो जल्द ही इसका इलाज भी ढूंढने वाले थे।