उड़ीसा में 500 साल पुराना विष्णु का मंदिर आया नदी से बाहर, दर्शन के लिए उमड़ी भीड़.. देखें तस्वीरें

उड़ीसा में 500 साल पुराना विष्णु का मंदिर
Spread the love

ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर के नयागढ़ में एक ऐसा चमत्कार हुआ, जिसे देख लोग हैरान रह गए। दरअसल नयागढ़ स्थित महानदी में एक करीब 500 साल पुराना मंदिर नदी से अचानक बाहर आ गया। जानकारों की मानें तो यह मंदिर  भगवान गोपीनाथ का मंदिर है। जो 15वीं या 16वीं सदी का है। गोपीनाथ को भगवान विष्णु का रूप माना जाता है। जिस जगह मंदिर मिला है, उसे सतपताना कहते हैं। यहां प्राचीन समय में सात गांव हुआ करते थे। ये सभी भगवान गोपीनाथ की पूजा करते थे। इन्हीं गांव वालों ने मंदिर का निर्माण भी करवाया था।

Gopinath temple Orissa

इस मंदिर को इंडियन नेशनल ट्रस्ट फॉर आर्ट एंड कल्चरल हेरिटेज (INTACH) की पुरातत्वविदों की टीम ने खोजा है। दीपक कुमार नायक भी इस टीम का हिस्सा हैं। दीपक बताते हैं कि मंदिर की ऊंचाई करीब 60 फीट है। जिसका ऊपरी हिस्सा महानदी नदी की सतह पर दिखाई दे रहा है। मंदिर के निर्माण कार्य और वास्तुशिल्प देखकर मंदिर 15वीं या 16वीं सदी का लगता है।

इसे भी पढ़े::: इरफान खान के जाने के बाद सुशांत ने साइन की थी ये बड़ी फिल्म

Gopinath temple Orissa

आर्कियोलॉजिस्ट दीपक बताते हैं कि करीब 150 साल पहले नदी के रास्ता बदलने के कारण तेज बाढ़ आई थी। जिसके बाद मंदिर और आस पास के गांव डूब गए थे। ऐसे में गांव वाले भगवान गोपीनाथ की मूर्ति मंदिर से निकालकर ऊंचे स्थान पर जा बसे।

इसे भी पढ़े: कोरोना संकट के बीच पीएम मोदी का अफसरों को निर्देश, बोले – राज्यों के साथ मिलकर तैयार करें इमरजेंसी प्लान

Gopinath temple Orissa in mahanadi river

दीपक कुमार ने ऐतिहासिक धरोहरों के बारे में रुचि रखने वाले रविन्द्र कुमार के साथ उस जगह का मुआयना किया। मुआयना करने के बाद रविन्द्र ने बताया कि यह गोपीनाथ मंदिर भगवान श्रीकृष्ण का ही मंदिर था। जैसे ही लोगों को पता चला तो मंदिर को देखने के लिए वहां बड़ी संख्या में लोग आ पहुंचे। कुछ लोगों ने यह भी बताया कि पहले यहां पद्मावती नामक गांव था। ये मंदिर भी उसी गांव का है।

Gopinath temple Orissa in mahanadi river

बताया जा रहा है कि इससे पहले भी 11 वर्ष पहले इस जगह पर भगवान गोपीनाथ मंदिर का कुछ हिस्सा दिखाई दिया था। लेकिन उस समय इसका बहुत कम हिस्सा पानी से बाहर आया था।