उत्तराखण्ड : कोरोना से लड़ाई में त्रिवेंद्र सरकार ने कसी कमर, लिए 5 बड़े फैसले

Spread the love

बीते दिनों से उत्तराखण्ड में कोरोना महामारी ने रफ्तार पकड़ ली है। कोरोना की इस तेजी पर काबू पाना उत्तराखण्ड की त्रिवेंद्र सरकार के लिए बड़ी चुनौती साबित हो रहा है। इसके मद्देनजर त्रिवेंद्र सरकार ने कोरोना से लड़ाई में अपनी रणनीति में बदलाव किया है। इसमें सरकार ने कोरोना के बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए कुछ बड़े फैसले किए।

1. शनिवार रविवार को देहरादून बंद, होगा सेनेटाइजेशन

गुरुवार को त्रिवेंद्र सरकार कुछ बड़े फैसलों के साथ कोरोना से लड़ाई में कमर कसती नजर आई। मुख्यमंत्री ने कहा कि हर हफ्ते शनिवार और रविवार दो दिन राजधानी देहरादून में पूर्ण बंद कर सेनेटाइजेशन करवाया जाएगा। बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए निरंजनपुर सब्जी मंडी को बंद कर वैकल्पिक व्यवस्था करवाई जाएगी। फ्रंटलाइन योद्धाओं की सुरक्षा को भी सुनिश्चित किया जाए। लोगों के लिए जरूरी सामान की व्यवस्था भी की जाए।

इसे भी पढ़े : उत्तराखण्ड: घास काटने गई थीं महिलाएं, गुफा में लापता कमांडो देख रह गई हैरान

2. क्वारेंटाइन सेंटरों की व्यवस्था पर रहे खास ध्यान

सीएम त्रिवेंद्र ने कहा कि क्वारेंटाइन सेंटरों में आवश्यक सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। होम क्वारेंटाइन में रह रहे लोगों की चैकिंग भी लगातार हो कि नियमों का पालन हो रहा है या नहीं। ग्रामीण क्षेत्रों में क्वारेंटाइन व्यवस्था पर खास ध्यान दिया जाए। इसके लिए ग्राम प्रधानों को निर्देशानुसार धनराशि दी जाए। कोविड केयर सेंटर में प्रशिक्षित स्टाफ व जरूरी उपकरणों की व्यवस्था भी उपलब्ध हो।

3. संक्रमितों की मौत पर आश्रितों को 1 लाख रुपए

गुरुवार को मुख्यमंत्री ने राज्य में कोरोना संक्रमित की मृत्यु पर आश्रित को एक लाख रुपए देने का ऐलान किया।

इसे भी पढ़े : खेत में अटका किसान का हल, जमीन में देखा तो निकला खजाना

4. कंटेनमेंट जोन में हो नियमों का सख्ती से पालन

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कंटेनमेंट जोन में सख्ती से गाइडलाइंस का पालन करने के निर्देश दिए। सीएम ने कहा कि गाइडलाइंस का उल्लघंन करने वालों पर जरूरी कार्यवाई भी की जाए।

5. टेस्टिंग को बढ़ावा

राज्य में संक्रमण के मामले बढ़ने पर टेस्टिंग बढ़ाने पर भी जोर दिया जा रहा है। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा है कि टेस्टिंग बढ़ाने और कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग पर खास ध्यान दिया जाए। किसी भी तरह की आवश्यकता होने पर शासन को तत्काल अवगत किया जाए।

इसे भी पढ़े : उत्तराखंड के इस शहर के नीचे हाईटेक भूमिगत सुरंग तैयार, इसके ऊपर खड़ा है पूरा बाजार