महाराष्ट्र : पालघर माॅब लिंचिंग में 2 साधुओं समेत 3 की मौत, मामले में 110 गिरफ्तार

पालघर माॅब लिंचिंग
Spread the love

देशभर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों से चुनौती भी बढ़ती जा रही है। वहीं इसी बीच महाराष्ट्र के पालघर जिले से एक इंसानियत को शर्मशार कर देने वाला मामला भी सामने आया है।शुक्रवार को पालघर में करीब 200 लोगों की भीड़ ने 2 साधु और 1 ड्राइवर की डंडों और पत्थरों से पीट-पीटकर हत्या कर दी। घटना को लेकर राजनीतिक बयानबाजी भी तेज हो चुकी है। विपक्ष लगातार महाराष्ट्र की उद्धव सरकार को घेर रही है। सरकार ने भी 3 लोगों की निर्मम हत्या के मामले में कार्रवाई करते हुए 101 लोगों को हिरासत में ले लिया है।

मामले की जानकारी देते हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) ने ट्वीट किया, पालघर की घटना पर कार्रवाई की गई है। 2 साधु, 1 ड्राइवर और पुलिस कर्मियों पर हमला करने वाले आरोपियों को पुलिस ने घटना के दिन ही गिरफ्तार कर लिया है। इस अपराध और शर्मनाक कृत के लिए अपराधियों को कठोर दण्ड दिया जाएगा।’

क्या था पूरा मामला?

जानकारी के अनुसार, शुक्रवार को पालघर जिले के एक आदिवासी गांव में करीब 200 लोगों ने तीनों को लुटेरा समझकर इनकी गाड़ी पर पथराव शुरू कर दिया। इसी बीच ड्राईवर ने पुलिस को भी सूचना दे दी। जब ड्राइवर ने वाहन रोका तो भीड़ ने इन्हें वाहन से उतार कर डंडों और रॉड से पीटना शुरू कर दिया।

पुलिस घटना स्थल पर पहुंची, तो गुस्साए ग्रामीणों ने पुलिस पर भी हमला कर दिया। जिससे पुलिस के वाहन को भी नुकसान पहुंचा। वहीं कासा पुलिस स्टेशन के अधिकारियों और जिला के एक सीनियर अधिकारी समेत पांच पुलिसकर्मी घायल हो गए। गुस्साई भीड़ ने दोनों साधुओं और ड्राईवर की एक नहीं सुनी और उन्हें निर्मम तरीके से पीट-पीटकर मार डाला।

बताया जा रहा है यह घटना उस वक्त हुई, जब ये लोग नासिक की ओर जा रहे थे। मृतकों की पहचान सुशीलगिरी महाराज, निलेश तेलगड़े और जयेश तेलगड़े के रूप में हुई है।